शुक्रवार, 25 दिसंबर 2009

चरित्रहीनता का जश्न!

टाइगर वुड्स मामले पर पूरे अमेरिका में हंगामा मचा हुआ है। हर कोई उनकी प्रेमिकाएं और तलाक के बाद उनकी बीवी को मिलने वाला पैसा गिनने में लगा है। बताया जा रहा है कि कैसे योजनाबद्ध तरीके से वुड्स ने इतने सालों तक पत्नी और परिवार को धोखा दिया। मगर ये पूरा हंगामा मेरी समझ से परे है। भारत जैसे देश में ऐसी हाय-तौबा मचती तो समझा जा सकता था, मगर अमेरिका, जो सालों से ‘अवैध सम्बन्धों की अंतरराष्ट्रीय राजधानी’ रहा है, वहां ऐसी चीख-पुकार समझ से परे है। ऐसा मुल्क जहां फोटो एल्बम दिखाते समय मांए बच्चों को बताती हैं कि बेटा वो पीले रंग की शर्ट में जो मेरा साथ खड़ा है, वो तुम्हारा पहला डैडी है और उनके साथ जो शख्स हरे रंग की शर्ट में बैठा है, वो तुम्हारे पहले डैडी का दूसरा डैडी है, उनके साथ जो लेडी बैठी हैं वो उनकी तीसरी वाइफ हैं और उसके गोद में जो बच्चा है, वो तुम्हारे पहले डैडी का दूसरा भाई है। समझे!

अब ऐसे मुल्क मे टाइगर वुड्स को यूं देखा जा रहा है जैसे चिड़ियाघर में बच्चे असली टाइगर देखते हैं। अपनी ये दुविधा जब मैंने स्थानीय स्तर के कलंक कथाओं के जानकार को बताईं तो उन्होंने इस हौ-हल्ले के पीछे की वजह समझाई। उनका कहना था कि दरअसल किसी भी समाज में सफल आदमी का चरित्रहीन होना लोगों को हज़म नहीं होता। आम मान्यता है कि चरित्र बचा कर ही सफल हुआ जा सकता है। ‘नेक चरित्र’ वो कीमत है जो हर सफल इंसान को चुकानी पड़ती है। इसलिए आम आदमी ये सोच कर ही तसल्ली कर लेता है कि चलो सफल नहीं हुए तो क्या...चरित्रहीन तो हो ही सकते हैं। मगर सेलिब्रिटी को ये छूट नहीं रहती। वो मिसाल बन चुका होता है। उसे आम समाज की चारित्रिक महत्वकांक्षाओं का बीड़ा उठाना होता है। समाज भी उस पर बराबर नज़र रखता है कि कहीं वो बिगड़ने न पाए। ऐसे में जब-कभी टाइगर वुड्स जैसा कोई नौनिहाल सामने आता है तो लोग बौखला जाते हैं। ऐसे में कुछ को अपना आदर्श टूटने की तकलीफ होती है, तो कुछ को इस बात की तसल्ली कि देखो, ये भी हमारी तरफ गिरा हुआ है।

यही वजह है कि आज समूचा अमेरिका टाइगर वुड्स के चारित्रिक पतन का जश्न मना रहा है। अख़बारों में उनकी प्रेमिकाओं की सूची यूं छापी जा रही हैं जैसे वो देश के लिए कुर्बान हुईं वीरांगनाएं हो और ये सब देख लोग फूले नहीं समा रहे कि जो शख्स उनसे जिस अनुपात में सफल था, वो उसी अनुपात में चरित्रहीन भी निकला। अट्ठारह प्रेमिकाएं!

7 टिप्‍पणियां:

परमजीत बाली ने कहा…

पता नही हमे तो ऐसा लगता है यह सब हल्ला प्रेमिकाओ कि खातिर नही...बल्कि उस की संपत्ति का हिस्सा बाँटने के कारण मच रहा है......इस तरह के अवैध संबध तो वहां आम बात है.....

सागर ने कहा…

राजा को भूल करने की छूट नहीं होती

दरअसल वूड्स की इतनी प्रेमिकाएं इतनी होगी भी नहीं जितनी बताई जा रही है... यह तो एक लोकप्रियता पाने का भी दौड़ है... अब वहां की एम्बिसिअस लड़कियां क्या कम गौरव महसूस करेंगी की "मैं वूड्स की गर्ल फ्रेंड हूँ" यह कहलवाने में... '

वूड्स डिज़र्व करते है पर १८ ही क्यों इससे ज्यादा क्यों नहीं?

इटली के प्रधानमंत्री क्या कबूला की मैं चरित्रहीन हूँ ऐरे-गिरे महिलाएं भी उनके साथ अपना अवैध सम्बन्ध बताने लगे...

बात वोही है "बदनाम हुआ तो क्या नाम ना हुआ... "

डॉ .अनुराग ने कहा…

दरअसल किसी भी समाज में सफल आदमी का चरित्रहीन होना लोगों को हज़म नहीं होता

सौ टके की बात !
पर कभी कभी नॉन सफल भी घिर जाते है जी .....मिसाल के तौर पे बेचारे एन डी तिवारी ..बुढ़ापे में मट्टी पलीत करा बैठे ...

Fighter Jet ने कहा…

I will say,group jealousy psychology..!
Meanwhile I did not know N D Tiwari also had some affair,from dr.Anurag comments :)

काजल कुमार Kajal Kumar ने कहा…

बड़े लोगों के क़िस्से बन जातें हैं आम लोगों का तलाक तक नहीं मिलता.

अर्कजेश ने कहा…

मीडिया मसाला । बात का महत्‍व है क्‍योंकि खुल गई ।

मधुकर राजपूत ने कहा…

चरित्रहीनता पर वाकई जश्न मनाया जा रहा है। इतना हल्ला तो हम तिवारी पर नहीं कर रहे जितना वो वुड्स के पीछे पडे हैं। बेचारा लॉन मूवर से उतर गया गोल्फ स्टिक छोड़ दी...अब क्या चाहता है अमरीका, परांठे बांधकर हिमालय की ओर चल दे?