गुरुवार, 26 जून 2008

ठाकरे ले लो, सरबजीत दे दो! (हास्य-व्यंग्य)

तमाम कोशिशों के बावजूद सरबजीत की रिहाई होते न देख भारत ने मुशर्रफ को दिल्ली आने का न्यौता दिया। भारतीय अधिकारी-मुशर्रफ साहब रिहाई को लेकर हम पर लगातार दबाव बढ़ता जा रहा है, अब तो कोई रास्ता निकालना ही होगा। मुशर्रफ-देखिए, दबाव तो मुझ पर भी कम नहीं है। वैसे भी आगरा वार्ता के बाद खाली हाथ लौट, एक बार मैं अपनी फजीहत करवा चुका हूं। भा.अधि-मतलब? मुशर्रफ-मतलब साफ है। सरबजीत के बदले आप अपना सबसे काबिल, चर्चित और होशियार आदमी हमें दे दें। भा.अधि-तो आप सौदेबाज़ी करना चाहते हैं......... ठीक है अगर ऐसी ज़िद्द है तो आप सरबजीत हमें सौंप दें और उसके बदले.......मुशर्रफ-उसके बदले क्या? भा.अधि-उसके बदले राज ठाकरे ले जाइये। मुशर्रफ चिल्लाते हुए खड़े हो जाते हैं-लाहौल विलाकुव्वत, इस वाहियात बात के लिए आपने हमें दिल्ली बुलाया है, अब हम यहां एक पल भी नहीं रूक सकते, टेम्पो बुलाओ।
भारतीय अधिकारी-आप बैठिये तो सही। अगर राज मंजूर नहीं तो हम और ऑप्शन दे सकते हैं। हमारे यहां 'नगीनों' की कमी नहीं है। ऐसा करें आप सरबजीत दे दें, और राखी सावंत ले लें।

मुशर्रफ-देखिए, मैं समझ नहीं पा रहा हूं कि आप समझौता करना चाह रहे हैं या ज़्यादती? राज ठाकरे या राखी सावंत लेने से अच्छा है आप हमें शक्ति कपूर दे दें। भारतीय अधिकारी-सीरियसली! मुशर्रफ-आप मज़ाक भी नहीं समझते। आपकी तरह हमारे यहां भी सर्कस का धंधा चौपट हो चुका है, चिड़ियाघरों पर ताले लगे हैं, ऐसे में आप ही बताएं, भला क्या करेंगे हम शक्ति कपूर का?
मुशर्रफ(थोड़ा रुककर)- देखिए, इंडियन म्यूज़िक की पाकिस्तान में बड़ी धूम है, उसकी कोई हस्ती हमें ऑफर करें, लता मंगेशकर या सोनू निगम..... उनके बारे में सोचिए। भा.अ.-देखिए, उन्हें तो हम आपके बदले भी नहीं देंगे। आपको अच्छी आवाज़ से मतलब है न, ऐसा करें आप हिमेश रेशमिया ले लें। मुशर्रफ-देखिए, हमें नगमे सुनने हैं, मस्जिदों से कौए नहीं उड़वाने। चलिए, आप हमें अमिताभ बच्चन दे दीजिए। भा.अ-मुशर्रफ साहब, अमिताभ को दे भी दिया तो आप लेंगे नहीं। मुशर्रफ-वो क्यों?

भा.अ- वो इसलिए क्योंकि उनके साथ अमरसिंह फ्री है। मुशर्रफ-तौबा, तौबा, तौबा....खैर छोड़ें....ये बताएं हिंदुस्तानी क्रिकेट टीम आजकल काफी अच्छा खेल रही है, ..सचिन, सौरव या द्रविड़ में से कोई मिल जाए तो...भा.अ-जिन खिलाड़ियों के आप नाम ले रहे हैं ये सब तो एक-आध साल में रिटायर हो जाएंगे, मेरी मानें आप आशीष नेहरा ले लें, उसके साथ कॉम्बो ऑफर में मुनाफ पटेल भी ले सकते हैं....आप भी क्या याद रखेंगे चलिए बालाजी भी दिया।
मुशर्रफः(जो अब तक आपा खो चुके थे) मैं समझ नहीं पा रहा हूं कि आप खिलाड़ियों के नाम गिना रहे हैं या मरीज़ों के। इन खिलाड़ियों के साथ तो आपको एक डॉक्टर भी देना पड़ेगा। भा.अ.-हां दे देंगे न, आप भारत के सबसे मशहूर डॉक्टर को ले लीजिए। मुशर्रफ-कौन, डॉक्टर त्रेहन? भारतीय अधिकारी-नहीं, डॉक्टर तलवार!

7 टिप्‍पणियां:

कुश एक खूबसूरत ख्याल ने कहा…

हा हा हा सही है.. लेकिन अंत में क्या रहा. क्या पार्ट टू लाने का इरादा है

Advocate Rashmi saurana ने कहा…

vha vha maja aa gya.

अभिषेक ओझा ने कहा…

हा हा... लिस्ट तो मजेदार है !

Shiv Kumar Mishra ने कहा…

बहुत बढ़िया...हमेशा की तरह शानदार.

डा० अमर कुमार ने कहा…

लिस्ट में एक नाम डा० अमित का भी जोड़ दें,
पाकिस्तान में गुर्दों की माँग विश्व में सर्वाधिक है !

Udan Tashtari ने कहा…

हा हा!! चुन चुन कर भेजने की तैयारी है. :) अर्जुन सिंग को भी ऑफर में डालना था. शायद मान जाते.

Madhup ने कहा…

बहुत बढियां व्यग्य बहुत समय बाद पढृने को मिला। लालू को दे दो,पूरे पाकिसतान को बिहार बना देंगे।